भारत की खोज किसने की थी - Bharat Ki Khoj Kisne Ki

क्या आप जानना चाहते हैं Bharat Ki Khoj Kisne Ki और कब की यदि हां तो आप बिल्कुल सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं क्योंकि यहां मैं आपको इसके बारे में 100% सही जानकारी देने वाला हूं। यह एक ऐसा प्रश्न है जिसको सुनने के बाद हर एक व्यक्ति के दिमाग में कई सवाल आ जाते हैं लेकिन इस लेख को पढ़ने के बाद आपके सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे तो आइए जानते हैं भारत की खोज किसने की कब की और कैसे की। 

Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi

भारत की खोज किसने की थी? - (Bharat Ki Khoj Kisne Ki)

आपकी जानकारी के लिए बता दूं भारत की खोज वास्कोडिगामा नाम के एक व्यक्ति ने की थी। वह 7 जुलाई 1497 में भारत के लिए समुद्री मार्ग की खोज करने के लिए रवाना हुए और 20 मई 1498 में केरल राज्य के कोजहिकोड कालीकट पहुंचा। यह पहली बार था जब किसी विदेशी को भारत की भौगोलिक स्थिति के बारे में पता चला था। वास्कोडिगामा एक नाविक था। उसने व्यापार के उदेश्य से भारत आने के लिए खोजा था। पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए निचे दी गई Video को एक बार जरूर देखें। 


बहुत सारे लोगों के दिमाग में एक महत्वपूर्ण सवाल आता है। की अगर भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की है तो क्या उससे पहले भारत पृथ्वी पर मौजूद नहीं था। लेकिन ऐसा कहाना बिलकुल गलत होगा है। क्यूंकि भारत पहले से ही पृथ्वी पर था। वास्कोडिगामा ने सिर्फ यूरोप से भारत तक पहुँचने के लिए समुद्री मार्ग ढूंढो था। आशा करता हूँ। अब आप जान गए होंगे की भारत की खोज किसी ने नहीं की थी बल्कि वास्कोडिगामा ने केवल भारत आने के लिए रास्ता तलाश किया था। 

आपको Google में कई लेख मिलेंगे जिनमें लिखा गया है कि इंडिया की खोज वास्कोडिगामा ने की थी। लेकिन आपको बता दें भारत दुनिया के सबसे पुराने देशों की सूची में तीसरे स्थान पर आता है। तो यह कहना बिल्कुल गलत होगा कि वास्कोडिगामा ने India Ki Khoj Ki Thi क्यूंकि जब यह आदमी भारत आया था उस समय भी भारत धरती पर मौजूद था। 

वास्कोडिगामा कौन था और कहां का रहने वाला था? 

वास्कोडिगामा यूरोप के रहने वाले Portugal के रहने वाले थे। यह आदमी समंदर के रास्ते अन्य देशों में Business करने के लिए अक्सर जाया करता था। वास्कोडिगामा का जन्म 1460 सदी में हुआ था और 38 वर्ष की उम्र में इन्होंने यूरोप से भारत आने वाले रास्ते की तलाश की थी। 

वास्कोडिगामा भारत क्यों आया था? 

जैसा की पहले भी मैंने आपको बताया वास्कोडिगामा एक मसाले का व्यापारी था और इसने भारत आने के लिए एक समुद्री रास्ता तलाश किया था। भारत के अलावा वास्कोडिगामा अन्य देशों में भी Business करने के लिए जाता था। 
अब आपको पता चल गया होगा की भारत की खोज किसी ने नहीं की थी। और Vasco De Gama मसालों का व्यापार करने के लिए भारत आया था। 

भारत की खोज किसने लिखी थी? 

भारत की खोज किताब पंडित जवाहरलाल नेहरू ने साल 1947 में लिखी थी। इस किताब में भारत का पूरा इतिहास लिखा गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के पहले प्रधानमंत्री भी थे। इस किताब को 2 भाषाओं में लिखा गया है अगर आपको अंग्रेजी नहीं आती तो आप इसको हिंदी में भी पढ़ सकते हैं। 

Conclusion 

हमारे भारत में लोग अभी भी सोचते हैं भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें यह बिल्कुल गलत है। क्योंकि अगर भारत का इतिहास देखा जाए तो हजारों सालों से धरती पर मौजूद है। और जब वास्कोडिगामा भारत आया था उस समय भी भारत था। 

लेकिन यह बात सच है की वास्कोडिगामा पहले ऐसे इंसान हैं जिन्होंने भारत आने के लिए समुद्री रास्ता खोजा था। क्योंकि उस जमाने में कोई नहीं जानता था भारत दक्षिण एशिया में स्थित है। इसलिए इतिहास में लिखा गया कि Bharat Ki Khoj Vasco De Gama नाम के आदमी ने की थी। 

दुनिया के सभी देश भारत के साथ पुराने जमाने से ही व्यापार करते हैं और आज पूरी दुनिया में India Popular देश माना जाता है। आज भी दुनिया के सभी देशों के साथ भारत व्यापार करता है। 

वर्तमान में अगर देखा जाए तो Bharat जनसंख्या की दृष्टि से Duniya Ka Dusra Sabse Bada Desh है आपको बता दें इंडिया दुनिया के अमीर देशों की लिस्ट में पांचवें स्थान पर आता है। यानी अब भारत एक अमीर देश भी बन गया है। 

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi के बारे में आपको पूरी जानकारी प्राप्त हुई होगी या अगर आपके मन में भारत की खोज किसने की थी के संबंधित कोई सवाल होगा तो आप कॉमेडी करके पूछ सकते हैं। 

 यह भी पढ़ें:-

Post a Comment

0 Comments